Vishwas Jain

  • November 22, 2020
  • sunil75
”निंदा“ से घबराकर अपने ”लक्ष्य“ को ना छोड़े क्योंकि…. “लक्ष्य” मिलते ही निंदा करने वालों की “राय” बदल जाती है।।

Mohit Sharma

  • September 10, 2020
  • sunil75
जान में जान बाकी है, तो इम्तहान बाकी है .. !!