”निंदा“ से घबराकर अपने ”लक्ष्य“ को ना छोड़े क्योंकि….
“लक्ष्य” मिलते ही निंदा करने वालों की “राय” बदल जाती है।।